रानी दुर्गावती छात्रावास

02-Jun-2017

रानी दुर्गावती छात्रावास

रानी दुर्गावती छात्रावास रायसेन में वार्षिक उत्सव महानाटय विष्णुदशावतार का मंचन हुआ।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रायसेन जिले की कलेक्टर उपस्थित रही।
 



वनवासी शिक्षा अवलोकन

02-Jun-2017

वनवासी शिक्षा

बैतूल जिले मे विद्या भारती के द्वारा जनजाति ग्रामों किये जा रहे सामाजिक परिवर्तन के कार्य का निकट से अवलोकन कार्यकर्ताओं ने किया ।
 
 
 
 
 
 


एकल विद्यालय

06-Jun-2017

एकल विद्यालय

 

भाऊराव देवरस सेवा न्यास मध्यप्रदेश

वनवासी क्षेत्र में अशिक्षा तथा धर्मान्तरण की विशेष समस्या है | वनांचल में निवास करने वाले वनवासी बंधू के सर्वांगीर्ण विकास के लिए संस्कार, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं स्वावलंबन हेतु मध्यभारत प्रांत में कार्य करने के लिए भाउराव देवरस सेवा न्यास का गठन किया गया है |
न्यास द्वारा वर्तमान में 720 निशुल्क सरस्वती एकल विद्यालयों का संचालन किया जा रहा है |
न्यास के उक्त्त कार्य बैतूल, हरदा, होशंगाबाद, रायसेन, भेसदेही जिलों में संचालित किये जा रहे हैं|

 
संस्कार केंद्र
झुग्गी झोपड़ी व पिछड़ी बस्तियों में भैया- बहनों के संस्कार के लिए केंद्र संचालित हैं । इन केन्द्रों के संचालन में प्रति केंद्र लगभग १० हजार रूपए वार्षिक व्यय आता है
एकल शिक्षक विद्यालय
भाउराव देवरस सेवा न्यास द्वारा दूरस्थ वनांचलों में एकल शिक्षक विद्यालय चलाए जा रहे हैं । इन केन्द्रों के संचालन में प्रति केंद्र लगभग १५ हजार रूपए वार्षिक व्यय आता है ।
जनजातीय छात्रावास
भाउराव देवरस सेवा न्यास द्वारा चार आवासीय जनजातीय छात्रावास का संचालन भी किया जा रहा है। उक्त्त छात्रावासों में जनजातीय छात्रों के आवास, भोजन एवं शिक्षा की निःशुल्क व्यस्था की गई है।


एकल विद्यालय संख्या

06-Jun-2017

एकल विद्यालय संख्या

 
भाऊराव देवरस सेवा न्यास भोपाल
प्रान्त मे वनवासी एकल केन्द्र संख्या 2015-16
क्र. जिला केन्द्र संख्या भैया बहिन योग आचार्य दीदी योग
1 बैतूल 205 1822 1884 3706 101 104 205
2 भैसदेही 222 2223 2089 4312 115 107 222
3 रायसेन 110 1226 1090 2316 83 27 110
4 नर्मदापुर 57 449 385 834 42 15 57
5 हरदा 47 553 486 1039 36 11 47
  योग 641 6273 5934 12207 377 264 641


वनवासी शिक्षा का प्रभावी कार्य

06-Jun-2017

प्रभावी कार्य

 
1. जनजाति भाषा संरक्षण- 
(क) गोंड़ी-कोरकू के संरक्षण हेतु ‘‘साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘लोकान्चल’’ का गोंड़ी भाषा में 2013 से प्रकाशन किया जा रहा है।
(ख) गोंड़ी-कोरकू भाषा के प्रोत्साहन हेतु जनजाति के युवा रचनाकारों की सृजन संवाद में सहभागिता कराई। जिसमें 50 युवक-युवतियों ने भाग लिया। 7 लोग ने पुरूस्कार प्राप्त किया।
(स) राष्ट्रीय गीत, शिशुगीत व अमृत वचनों का गोंड़ी, कोरकू में भाषान्तर कराया जा रहा है।

2. बंगला भाषा संरक्षण- 
बंगला भाषा संरक्षण के लिये बंगला भाषा बाहुल्य क्षेत्र चोपना में 2015 से संस्कार चलाये जा रहे हैं। वर्तमान में 6 केन्द्र चल रहे हैं।

3. मराठी भाषा केन्द्र- 
2015 में सीमोंल्घन के अन्तर्गत विद्या भारती द्वारा विदर्भ के अमरावती जिले में  मराठी भाषा के 24 संस्कार केन्द्र प्रारम्भ किये हैं।

4. महिला स्वसहायता समूह- 
2015 में अध्ययन कर चयनित ग्रामों में से 2 ग्रामों में 3 स्वसहायता समूह बैतूल जिले में गठित किये गये हैं।

5. जैविक खेती (गौआधारित कृषधि)- 
विद्या भारती द्वारा चयनित 123 आदर्श ग्रामों में से 10 ग्रामों के 25 किसानो ने गौआधारित कृषधि के प्रयोग शुरू किये हैं।

6. प्लास्टिक मुक्त घुरा-
खेत में शुद्ध जैविक खाद ही पहुँचे, प्लास्टिक नहीं। इसीलिये 2015 से ग्रामों में प्लास्टिक मुक्त घूरा बनाने के लिये जनजाति ग्रामों की माताओं, बहिनों को जागृति कर प्लास्टिक मुक्त घूरे बनाये जा रहे हैं, जिससें अभी तक 477 ग्रामों में 5317 परिवार सहभागी बने हैं।

7. स्वाबलम्बी प्रशिक्षण-
2015 में 23 आचार्य-दीदियों कों 10 दिवसीय कम्प्यूटर प्रशिक्षण दिया गया। साथ ही प्रकल्पों में कौशल विकास के अलग-अलग विधाओं में प्रशिक्षण दिये जा रहे हैं।

8. वसंत पंचमी उत्सव- 
(क) 2014 से सरस्वती संस्कार केन्द्रों के माध्यम से ग्राम सरस्वती जन्मोत्सव (ग्रामोत्सव) के रूप में मनाना शुरू हुआ है जहाॅ पूजन कर समर्पण कराया जाता है। जिससे समर्पण 2014 में 131956/-व 2015 में 266378/- हुआ।
(ख) सत्र 2015 में - कायदा जिला हरदा का समर्पण उत्सव विशेष रहा । जिसमें 5000 वनवासी महिला- पुरूष सहभागी हुए।

9. समर्थ भारत तिरंगा यात्रा- 
2015 से रायसेन जिले के जनजाति ग्रामों में अगस्त माह में यह तिरंगा यात्रा निकाली जा रही है। जो 60-70 ग्रामों से होकर निकलती है। और 15 अगस्त को गाँव में तिरंगा उत्सव मनाया जाता है।

10. वनवासी ग्रामों में जनजागृति- 
(क) अपने प्रयासों से जनजाति ग्रामों में जन चेतना आने लगी है। जहाॅ 2015 में कुछ गाॅवों मे से राजनी जैसे कोरकू बाहुल्य ग्राम में घुसपैटिये के रूप में आये एक मुस्लिम परिवार को रहने नहीं दिया गया। ग्राम सभा द्वारा उसे भगाया।
(ख) दूसरा इसी गाॅव में ईसाई धर्म में गई महिला को यहाॅ की महिलाओं ने ही वापिस अपने हिन्दू धर्म में बुला लिया है। सोहागपुर में प्रार्थना सभा बंद कर 25 परिवारों को मिशनरी के चंगुल से मुक्त किया है। यह सब सामाजिक सर्वे अभियान का परिणाम है। जो एकल विद्यालय द्वारा सतत चलाया जा रहा है।

11. जल प्रबन्धन कार्यशाला-
2014 से इस जल प्रबन्धन कार्यशाला का आयोजन अलग-अलग 2 स्तर पर किया जाता है। जिससें ग्राम स्तर पर बोरी बन्धान बनाने की विधि व पानी बचाव का महत्व बताया जाता है।
 


वनवासी शिक्षा का सामाजिक सरोकार

06-Jun-2017

सामाजिक सरोकार

 
जल महोत्सव
भैंसदेही तहसील के ग्राम बैलढाना में जल_महोत्सव | 
सन २००५ में यहाँ विद्या भारती की जनजाति शिक्षा के द्वारा एकल शिक्षक विद्यालय प्रारम्भ हुआ | सन २००६ में बुधपाल सिंह जी, Govind Carpenter जी, Roopsingh Lohane जी के साथ बैतूल जिले में की शिवधज (शिक्षा वन धर्म जल) रक्षा पदयात्रा का हमारा पहला पढ़ाव ग्राम बैलढाना ही था | उस समय गाँव में कुछ पौधरोपण हुआ | उसी समय पहली बार ग्राम में श्री गणेश मूर्ति की स्थापना हुई | मूर्ति स्थापित होने से गाँव में नशा करने वालों की संख्या कम हुई | उसके बाद पंडित Shyam Manawat जी की रामकथा इस गाँव में हुई | गाँव में हनुमान जी की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हुई | गाँव के अधिकाँश लोगों ने तब से नशा करना बंद कर दिया | नशा बंद होने लोगों की आय में वृद्धि हुई | लोगों ने इसे रामकथा का ही प्रभाव माना | बोरी_बंधान और पंचायत द्वारा निर्मित पाटिया डेम से गाँव की सूखी धरती में पानी लगने लगा | मध्यप्रदेश शासन की योजना कपिल धारा कुओं ने ग्राम की सिंचाई का रकबा बढ़ा दिया |
इस बार वर्षा कम हुई है | इसलिए जल सहेजने की चिन्ता ग्रामीणों को होने लगी है | लैकिन अभी भी सभी की आशायें सरकार पर ही लगी रहती है | पर एकल विद्यालय के माध्यम से कोई आव्हान हुआ तो गाँव के लोग जुट जाते हैं | आज बोरी बंधान में गाँव के सभी आयु वर्ग का प्रतिनिधित्व हुआ |






 


जल_प्रबन्धन
आज बोरी_बंधान के लिए कढ़ाई ग्राम में गए तो देखा पंचायत द्वारा निर्मित "पटिया डेम" से पानी बह रहा था | विद्या भारती द्वारा संचालित सरस्वती संस्कार केन्द्र के बच्चों और गाँववासियों के सहयोग से उसी में मिट्टी भरकर जल_संरक्षण किया | इस पटिया डेम से हर वर्ष कम से कम तीस एकड़ जमीन में सिंचाई होती है |
आज के जल_महोत्सव में जनजाति शिक्षा के प्रान्त प्रमुख बुधपाल सिंह जी, वनवासी कल्याण आश्रम के जिला सचिव Pooran Parte जी, छुट्टियों में घर आये भारतीय सेना के जवान श्री राजेश सिंह सहित ग्राम के सचिव व संस्कार केन्द्र के संयोजक मण्डल के सदस्यों ने श्रमदान किया |



 
ग्राम जोगली में जल_महोत्सव
विद्या भारती के द्वारा ग्राम-ग्राम में संचालित छोटे-छोटे अनौपचारिक शिक्षा केन्द्रों (एकल विद्यालय) का समाज में धीरे-धीरे कितना असर होता है | अब उसका प्रभाव देखने को मिल रहा है | आज जहाँ लोग अपने घर के सामने का पड़ा कचरा फेंकने के लिए सरपंच की राह देखते हैं वहीं कुछ गाँव ऐसे भी हो रहे हैं जहाँ लोग अपने व्यक्तिगत काम छोड़कर ग्राम हित के लिए समय देने लगे हैं |
गाँव के बूढ़े, बच्चे जवान, महिलायें सभी आये, अपने गाँव का पानी गाँव में रोकने के लिए और सुबह नौ बजे से बारह बजे तक तीन घन्टे में थाम लिया अपने गाँव की सड़क किनारे बहने वाली नदी की पतली धार को | बोरियाँ कम पड़ जाने से थोड़ा काम बाकी रह गया |
अखिल भारतीय वनवासी कृषि ग्रामीण मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री आदरणीय अरविन्द जी मोघे ने बैतूल जल प्रबन्धन की बहुत चर्चाएँ सुनी थी | उन्होंने ने भी आज पूरे समय उपस्थित रहकर सबका उत्साहवर्धन किया | जनजाति शिक्षा के प्रान्त प्रमुख बुधपाल सिंह जी, जिला प्रमुख Bajiram जी संकुल प्रमुख Jamdusingh Ahake जी सहित गाँव के सरपंच, पञ्च, सचिव तथा सभी प्रमुख लोगों ने बोरी बन्धान में श्रम साधना की |
 


 
हरियाली_महोत्सव 

पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से विद्या भारती जनजाति क्षेत्र की शिक्षा द्वारा प्रतिवर्ष दो बड़े अभियान लिए जाते हैं | एक, जल संरक्षण हेतु जल_महोत्सव के तहत बोरी_बंधान तथा दूसरा, हरियाली महोत्सव के अंतर्गत पौधारोपण | बैतूल जिले के साढ़े चार सौ से अधिक गाँवों में इन दोनों अभियानों से जल संवर्धन तथा हरियाली में वृद्धि के साथ-साथ ग्रामीणों में जागरूकता भी बढ़ी है | 
भारत_भारती में आयोजित जिला बैठक में हरियाली महोत्सव का शुभारम्भ प्रान्त प्रमुख बुधपाल सिंह जी, तथा भारत भारती के उपाध्यक्ष डॉ. रमापति जी के द्वारा जिले भर के कार्यकर्ताओं को अपने खेत की मेढ़ में लगाने के लिए भारत भारती नर्सरी से आम, नीम, करंज, जामुन, अशोक आदि के पौधे वितरित किये गए |
 



 


विश्व आदिवासी दिवस

विश्व आदिवासी दिवस पर जनजाति शिक्षा विद्या भारती, सतपुड़ा जनजाति मंच तथा सतपुड़ा समग्र जनकल्याण समिति बैतूल द्वारा विशाल रैली एवं सभा का आयोजन भारत भारती ग्राम जामठी में किया गया | जिसमें बड़ी संख्या में बैतूल विकासखंड के जनजाति महिला-पुरुषों ने सहभागिता की |
सम्पूर्ण कार्यक्रम जनजाति भाषा गोंडी में ही संपन्न हुआ | जिसमे सतपुड़ा जनजाति मंच के संयोजक श्री नागुराव सिरसाम, वनवासी कल्याण आश्रम के जिला सचिव Pooran Parteजी, विद्या भारती जनजाति शिक्षा के प्रांत प्रमुख बुधपाल सिंह जी, जनजाति परिषद के Durgadas Uikey जी आदि वक्ताओं ने जनजाति समाज को शिक्षित, जागरूक तथा संगठित होने पर बल दिया | वक्ताओं ने चर्च तथा अन्य ईसाई मिशनरियों के मतांतरण के कुचक्र में न फंसकर अपने जनजाति धर्म का पालन करने का सभी से आव्हान किया तथा एवं समाज विरोधी विचारधारा के संगठनों से सचेत रहने को कहा |
वक्ताओं ने कहा कि पूरे विश्व को पर्यावरण और धरती की रक्षा की सीख जनजाति समाज से लेना चाहिये जो आदिकाल से पहाड़, पेड़, पत्थर, जल तथा नदियों को पूजता हुआ आ रहा है इसके कारण जहाँ जनजाति समाज रहता है वहाँ आज भी जंगल बचा हुआ है | लोगों की ये धारणा गलत है कि जनजाति समाज जंगल में रहता है, जबकि जंगल उसके कारण बचा है | कार्यक्रम की अध्यक्षता जनपद सदस्य श्रीमती रोमी बलवंत धुर्वे ने की |
 



 


जल प्रबन्धन कार्यशाला
जल प्रबन्धन कार्यशाला - गाँव का पानी कौन रोकेगा- हम रोकेंगे ,हम रोकेंगे | भाऊराव देवरस सेवा न्यास संचालित सरस्वती संस्कार केन्द्र जिला बैतूल के द्वारा 9/10/2015 को " जल प्रबन्धन कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें बैतूल विकास खंड के 61 ग्रामों के 200 से अधिक महिला - पुरुषों नें भाग लिया | संस्कार केन्द्रों के माध्यम से प्रति वर्ष मध्य भारत प्रांत के वनवासी ग्रामों में "बोरी बन्धान" कर जल प्रबन्धन का कार्य आचार्य - दीदियों व भैया- बहिनों और संयोजक मंडल के सदस्यों द्वारा किया जाता है|इस वर्ष का यह आयोजन उसी का हिस्सा है | कार्यशाला में विद्या भारती जनजाति क्षेत्र की शिक्षा के क्षेत्र प्रमुख मा.मोहन जी नागर का मार्गदर्शन मिला ,मुख्य अतिथि बैतूल विधायक मा.हेमन्त जी खंडेलवाल ,अध्यक्ष श्री तेजीलाल जी धुर्वे पूर्व सरपंच चिखलीमाल विशेष अतिथि डा.रमापति मणि त्रिपाठी जी ,भा.भा.प्राचार्य श्री राहुलदेव जी ठाकरे रहे | (भारत भारती आवासीय विद्यालय ) परिसर जामठी बैतूल |
 


वनवासी शिक्षा के कार्यक्रम

06-Jun-2017

कार्यक्रम

वसंत पंचमी ग्राम "बाचा"

घर घर से माताओं- बहिनों ने माँ सरस्वती का पूजन कर श्रृद्धा के समर्पण किया|यहाँ सरस्वती पूजन उत्सव अब केवल केन्द्र का न होकर पूरे गाँव का हो गया है जिसमें बच्चे- बूढ़े , महिला - पुरुष सभी सहभागी होते हैं| ऐसा है आदर्श ग्राम "बाचा" जिला बैतूल |



 
वसंत पंचमी केन्द्र बयावाड़ी बैतूल 
 
वसंत पंचमी "सरस्वती पूजन " समर्पण उत्सव विद्या भारती जनजाति क्षेत्र की शिक्षा बैतूल केन्द्र बयावाड़ी बैतूल बाजार में आज सम्पन्न हुआ|जिसमें ग्राम पंचायत सरपंच श्रीमति लक्ष्मीबाई धुर्वे ने अध्यक्षता की व पंचायत सचिव व अन्य पंच बन्धुओं के साथ पालक माताऐं भी उपस्थित रही|पूजन उपरांत केन्द्राचार्या श्रीमति वंदना लिखितकर के मार्गदर्शन में ग्राम में शोभा यात्रा निकाली गई जिसका समापन मंदिर में आरती के साथ किया गया|
 
 
 
"वनवासी शिक्षा "मध्य भारत 
सरस्वती संस्कार केन्द्र मासोद द्वारा वसंत पचंमी उत्सव पर माँ सरस्वती पुजन
 
 
 
वसंतोत्सव हरदा
 

प्रकृति की गोद सतपुड़ा की सुरम्य वादियों में विद्या भारती जनजाति शिक्षा जिला हरदा द्वारा सरस्वती पूजन उत्सव "वसंतोत्सव" के रुप में मनाया गया जिसमें आसपास के २० ग्रामों से ३००० वनवासी महिला-पुरुष सहभागी हुए|इस अवसर पर अपने क्षेत्र की सांस्कृतिक पहचान गदली नृत्य,डंडार नृत्य,घेरा नृत्य राम सत्ता का प्रदर्शन कर दर्शकों का मन मोह लिया|इस अवसर पर सरस्वती भंडारे का आयोजन भी रखा गया था जिसमें सभी आगुन्तकों ने भोजन प्रसादी का आनंद लिया|समापन पर ग्राम भारती के प्रादेशिक सचिव आ. सुजीत जी शर्मा का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ|
 
 
 
 
 
सरस्वती पूजन ग्राम कायदा
 
विद्या भारती जनजाति क्षेत्र की शिक्षा "भाऊराव देवरस सेवा न्यास भोपाल द्वारा संचालित सरस्वती संस्कार केन्द्रों का सात दिवसीय वसंतोत्सव "सरस्वती पूजन"उत्सव हरदा जिले के वन ग्राम कायदा से १०/२/१६ को माँ सरस्वती की भव्य शोभा यात्रा निकाल कर किया गया|जिसमें शिशु वाटिका कायदा व संस्कार केन्द्र के भैया बहिनों के साथ ही वनवासी बन्धुओं ने उत्साह से भाग लिया|वसंतोत्सव शोभा यात्रा का शुभारम्भ कायदा ग्राम पंचायत के सरपंच श्री शेषकर व पूर्व सरपंच श्री दादू जी ने किया|
 
 
 
अखिल भारतीय अधिकारी प्रवास 
 
विद्या भारती के अखिल भारतीय अधिकारी - मा. प्रकाश जी राष्ट्रीय संगठन मंत्री व मा.हेमेन्द्र जी, मा.नृपेन जी आदि आदर्श केन्द्र जाड़ीढ़ाना पधारे जिसमें देव स्थान दर्शन,केन्द्र दर्शन,चौपाल बैठक, कारगिल युद्ध के शहीद किशोरी लाल उइके को श्रद्धासुमन अर्पण व परिवार सम्पर्क हुआ|साथ ही सरस्वती संस्कार केन्द्र द्वारा चलाये जा रहे समाज हितेशी कार्यों (ग्राम स्वच्छता,दीवार लेखन,अन्नपूर्णा मण्डप,गौ आधारित कृषि,जल प्रबन्धन बोरी बन्धान)आदि का अवलोकन भी किया गया|
 
 
 
 
 
 


दान दीजिये

06-Jun-2017

दान दीजिये

वनवासी एकल विद्यालय में सहायता करने हेतु दान दीजिए
भाऊराव देवरस सेवा न्यास के एकल विद्यालयों को दान दीजिए

कृपया रेखांकित चेक या डिमाण्ड ड्राफ्ट भाऊराव देवरस सेवा न्यास के नाम पर भोपाल में देय हो 
निम्न नाम से निम्न पते पर भेजें :-
भाऊराव देवरस सेवा न्यास
“प्रज्ञादीप” सरस्वती शिक्षा प्रतिष्ठान मध्य प्रदेश,
हर्षवर्धन नगर, भोपाल,मध्य प्रदेश,पिनकोड :- ४६२००३
फोन :- ०७५५ – २७६१२२५, २७६०४९१
ईमेल :- vidyabhartimp@ymail.com, svp_vb@yahoo.co.in

यदि आप पैसे बैंक ट्रान्सफर द्वारा भेजना चाहतें हैं तो :-
१. कृपया राकेश शर्मा को +९१९४२४४२६४०९ पर कॉल करें और वे आपको पूरी प्रक्रिया समझायेगें |
२. या हमें ईमेल करें :- vidyabhartimp@ymail.com या svp_vb@yahoo.co.in |
३. डिमाण्ड ड्राफ्ट भोपाल में देय होना चाहिए |
४. पेन कार्ड / वैध शासकीय फोटो पहचान पत्र की एक प्रति को चेक या डिमाण्ड ड्राफ्ट के साथ भेजना चाहिए |
ऑन लाइन बैंक ट्रान्सफर हेतु :-
कृपया हमें अपना पता एवं पेन कार्ड (भारतीय नागरिक) / पास्टपोर्ट (अप्रवासी या बाहर रह रहे भारतीय / अन्य ) की स्कैन की गई प्रति ईमेल द्वारा निम्न ईमेल पर भेजें :- vidyabhartimp@ymail.com या svp_vb@yahoo.co.in |
हम आपके ईमेल के जवाब में अपने बैंक खाते संबंधित विवरण भेजेगें |
हम आपके चेक / डिमाण्ड ड्राफ्ट के प्राप्त होने के १–२ दिन में आपको रसीद / पावति भेजेगें |
समस्त दान पर ८०(जी) की छूट प्राप्त है |


वनवासी प्रकल्प

06-Jun-2017

वनवासी प्रकल्प

जनजातीय छात्रावास प्रकल्प

भाउराव देवरस सेवा न्यास द्वारा चार आवासीय जनजातीय छात्रावास का संचालन भी किया जा रहा है | उक्त्त छात्रावासों में जनजातीय छात्रों के आवास, भोजन एवं शिक्षा की निःशुल्क व्यस्था की गई है |

प्रान्त द्वारा संचालित ११ वनवासी प्रकल्पो में ४२४ छात्र छात्राएं अध्यनरत है. जिन्हें १७ आचार्य एवं ४ महिला आचार्य आवासीय व्यवस्था में रहकर भैया बहिनों को संस्कार देने के कार्य में सतत लगे है.

सत्र २०१६ - १७ में प्रकल्प की छात्र संख्या की निम्नानुसार है.

क्र. छात्रावास का नाम  स्थान  छात्र छात्रा योग 
1 जनजाति ताप्ती बालक छात्रावास भारत भारती बैतूल 35 0 35
2 जनजाति बालक छात्रावास धावा (भैसदेही) बैतूल 42 0 42
3 बड़ादेव जनजाति बालक छात्रावास कायदा (टिमरनी) हरदा 20 0 20
4 राजा भभूतसिंह जनजाति बालक छात्रावास मटकुली (पचमढ़ी),  22 0 22
5 बिरसा मुण्डा जनजाति बालक छात्रावास सियरमऊ, रायसेन 76 0 76
6 पू. सुदर्शन जनजाति बालक छात्रावास प्रतापगढ़, रायसेन 40 0 40
7 रानी दुर्गावती जनजाति बालिका छात्रावास गोपालपुर रायसेन 0 139 139
8 जनजाति बालक छात्रावास बेगमगंज, रायसेन 6 0 6
9 जनजाति बालक छात्रावास पचोर, राजगढ़ 21 0 21
10 बालासाहेब देवरस बालक छात्रावास देवनगर  7 0 7
11 जनजाति बालक छात्रावास रहटगाँव 16 0 16
  महायोग    285 139 424


सरस्वती पूजन

08-Jun-2017

सरस्वती पूजन

 
 
 


















समर्पण राशि विवरण सत्रानुसार

08-Jun-2017

विद्याभारती मध्यभारत 
समर्पण राशि विवरण सत्रानुसार 
क्र विभाग का नाम  सत्र 2009-2010 सत्र 2010-2011 सत्र 2011-2012 सत्र 2012-2013 सत्र 2013-2014
1 ग्वालियर  911493 1170858 1179937 1218660 1457733
2 शिवपुरी 421029 504258 427152 520262 633039
3 राजगढ़ 522888 764823 647295 823312 1237344
4 भोपाल 586784 674001 564089 1255555 1558649
5 होशंगाबाद 797915 1107883 1031063 1244148 1365252
  योग 3240109 4221823 3849536 5061937 6252017
             
क्र विभाग का नाम  सत्र 2014-2015 सत्र 2015-2016 सत्र 2016-2017 सत्र 2017-2018 सत्र 2018-2019
1 ग्वालियर           
2 शिवपुरी          
3 राजगढ़          
4 भोपाल          
5 होशंगाबाद          
  योग